IPO क्या है? IPO कैसे खरीदें? IPO Full Form in Hindi

इस Post में जानिए IPO क्या है (What is IPO in Hindi), IPO क्या होता है, IPO कितने प्रकार का होता है, IPO कैसे खरीदें, IPO में Invest कैसे करें, IPO Full Form in Hindi, जानिए IPO के फायदे और नुकसान ।


IPO Kya Hai: यदि आप Share Market में Invest करना चाहते हैं तो आपको IPO क्या है? IPO Investment in Hindi जरूर पता होना चाहिए इसलिए इस Article में हमने IPO क्या होता है कि पूरी जानकारी दी है जो Share Market में Invest करने वालों के लिए बहुत काम की है ।

{tocify} $title={Table of Contents}

IPO क्या है? [What is IPO in Hindi]

IPO का Full Form - Initial Public Offering है । जब कोई Company Share Market में List होना चाहती है तो पहली बार अपने सामान्य Share या Stock को Public के लिए Offer करती है, उसे IPO कहते हैं ।

कुछ लिमिटेड कंपनियों को अपनी Growth बढ़ाने के लिए Fund की आवश्यकता होती है तो वे अपने कुछ प्रतिशत सामान्य Share या Stocks को Public के लिए जारी कर देती है । इससे कंपनी के पास जो भी Fund जमा होता है उसे वह अपनी तरक्की में लगा देती है और Investors को कंपनी में कुछ प्रतिशत हिस्सेदारी मिल जाती है ।

आसान भाषा में समझे तो जब कोई कंपनी अपने सामान्य शेयर को पहली बार Public के लिए जारी करती है तो उसे ही IPO [Initial Public Offering] कहते हैं । हम कह सकते हैं कि IPO किसी भी Company के लिए Share Market में List होने का एक माध्यम है ।

अधिकतर IPO वह कंपनियाँ Launch करती है जो छोटी होती है और जिन्हें अपनी कंपनी को आगे बढाने के लिए पैसों या Fund की आवश्यकता होती है लेकिन ऐसा नहीं है क्योंकि IPO बड़ी निजी कंपनियों द्वारा भी जारी किए जा सकते हैं जो Public Market में Business करना चाहती है या फिर उन्हें एक नया Product Launch करना होता है । एक Company एक से ज्यादा बार भी IPO ला सकती है ।

IPO Full Form in Hindi [IPO Meaning in Hindi

IPO का Full Form "Initial Public Offering" है । इसका हिंदी में मतलब (IPO Meaning in Hindi) - "प्रथम जन प्रस्ताव" होता है ।

अब तक हमने जाना कि IPO क्या है? व IPO Full Form in Hindi, चलिये अब हम जानेंगे कि IPO क्यों जारी किए जाते हैं ।

IPO लाने के कारण क्या है?

विस्तार योजना के लिए

आमतौर पर कंपनियां अतिरिक्त Fund जुटाने के लिए IPO जारी करती है । जब कंपनी की Value 1 Billion डॉलर पहुँच जाती है तो इसे Unicorn Status कहते हैं ।

जब कंपनियों को लगता है कि वे इस Status पर पहुंच गई हैं और अब उन्हें ओर तेज़ी से Growth करना है और Company को और भी ज्यादा शहरों व लोगों तक पहुंचाना है और इसके लिए उन्हें विस्तार योजनायें लाने की जरूरत है, तो फिर उन्हें ओर ज्यादा Fund चाहिए होता है जिसके लिए IPO जारी किए जाते हैं ।

वैसे तो Company Grow करने के लिए Banks से Loan भी ले सकती है लेकिन फिर उन्हें एक निश्चित समय के बाद ब्याज के साथ पैसे लौटाने पड़ते हैं । इसलिए कंपनियाँ दूसरा तरीका अपनाती है क्योंकि इसमें उन्हें Investors को पैसे वापिस लौटाने नहीं होते हैं और ना ब्याज देना होता है ।

निवेशकों के फायदे की बात करें तो IPO खरीदने से उन्हें Company में कुछ प्रतिशत हिस्सेदारी मिल जाती है और वे उस हिस्से के मालिक बन जाते हैं । मतलब जैसे कि किसी Company ने IPO जारी किया और आपने 3 प्रतिशत Share खरीद लिए तो आप Company में 3 प्रतिशत हिस्से के मालिक बन जाएंगे ।

जैसे - जैसे Company Grow करेगी वैसे - वैसे आपका भी फायदा होगा । इस तरह IPO जारी करने से कंपनी व Investor दोनों का फायदा होता है ।

कर्ज कम करने के लिए

जिन कंपनियों पर बहुत ज्यादा कर्ज होता है तो वे Bank से Loan लेने के बजाए IPO जारी करती है । इस तरह कंपनी अपने कुछ Share बेचकर Fund इकट्ठा करके कर्ज भी चुका देती है और Company को नए Investor भी मिल जाते हैं और निवेशक कंपनी के कुछ हिस्से का हिस्सेदार बन जाता है या कहें कि मालिक बन जाता है ।

नया Product या Service Launch करने के लिए

जब किसी कंपनी को अपना नया Product या फिर कोई नई Service Luanch करनी होती है तब भी IPO जारी कर सकती है । इससे Company को बहुत सारे Investor मिल जाते हैं और Launching के लिए Fund भी इकठ्ठा हो जाता है ।

IPO जारी करने से कंपनी के साथ Investors को भी फायदा होता है । Investors को Company में हिस्सेदारी मिल जाती है मतलब वे Company के कुछ प्रतिशत हिस्से के मालिक बन जाते हैं और कंपनी को भी Growth के लिए, कर्ज चुकाने के लिए या नया Product Launch करने के लिए Fund मिल जाता है । जैसे - जैसे कंपनी Grow करती है वैसे - वैसे Investors द्वारा Invest Amount की भी Value बढ़ती रहती है । {alertInfo}

IPO के प्रकार (Types of IPO in Hindi)


IPO के प्रकार (Types of IPO in Hindi)

IPO के मुख्यत: दो प्रकार होते हैं । इनके बारे में नीचे Detail में बताया गया है ।

  1. Fixed Price IPO [Fixed Price Issue]
  2. Book Building IPO [Book Building Issue]

1. Fixed Price IPO

Fixed Price IPO में Company अपने सामान्य Shares को Public करने के लिए उनकी Price Fix कर देती है । इसके लिए Company Investment Bank के साथ Meeting करती है और Shares के Price Fix करती है । कोई Investor अगर उस Company के Share खरीदना चाहता है तो फिर वह उस Fixed Price पर ही Shares खरीद सकता है ।

2. Book Building IPO

Book Building IPO में निवेशकों द्वारा Shares की बोली लगाई जाती है । मतलब कोई Investor Company के कितने Share खरीदना चाहता है और उसके लिए वह कितने Pay करने को तैयार है ।

इसमें कंपनियाँ Investment Bank के साथ मिलकर एक Price Band निर्धारित करती है । Price बैंड निर्धारित होने के बाद IPO को जारी किया जाता है । Final Price Band Set होने के बाद Investor उसमें बोली लगाते हैं ।

Book Building Issue में किसी भी Share की Price Fixed नहीं होती है । सबसे कम Price वाले Share की कीमत को Floor Price कहते हैं जबकि सबसे अधिक Price वाले Share की कीमत को Cap Price कहते हैं ।

Book Building IPO में Floor Price व Cap Price में 20% का अंतर रखा जाता है ।

आईपीओ से पैसे कैसे कमाएँ - IPO Se Paise Kaise Kamaye

अगर आप IPO से पैसे कमाना चाहते हैं तो इसके लिए आपको IPO में Invest करना होगा । मतलब आपको IPO Share खरीदने होंगे । इसमें आपके पैसे की Growth पूरी तरह Company पर Depend रहती है । अगर Company Grow करती है तो आपने जो पैसे Invest किये हैं वो भी बढ़ेंगे लेकिन अगर Company Loss में जाती है तो हो सकता है आपके पैसे डूब भी जाये ।

IPO में Apply करने वाले Apps (Best Apps For Buy IPO)

अगर आप IPO में Invest करना चाहते हैं और IPO से पैसे कमाना चाहते हैं तो आपके लिए हमने Best IPO Apps की List बनाई है ।

IPO में Apply करने वाले ऐपIPO App डाउनलोड लिंक
Upstox App (अपस्टॉक्स ट्रेडिंग एप्प)Upstox App Download
Groww App (ग्रो इन्वेस्टमेंट एप्प)Groww App Download
Angel One By Angel Broking (एंजेल ब्रोकिंग)Angel Broking App Download
Zerodha Trading App (ज़ेरोधा किट ट्रेडिंग एप्प)Zerodha Download
IPO में अप्लाई करने के लिए Best Apps

मैं उम्मीद करता हूँ कि आप आईपीओ क्या है, IPO लाने के कारण व IPO के प्रकार समझ गए होंगे । चलिये अब हम जानते हैं कि IPO में Invest कैसे करें

IPO में निवेश कैसे करें - IPO Me Invest Kaise Kare

जब भी किसी कंपनी का IPO जारी होता है तो निवेशकों के पास उसे खरीदने का 3 से 10 दिन तक का समय होता है । इस Time Time Period के अंदर ही कोई Investor IPO खरीद सकता है । कुछ कंपनियाँ IPO खरीदने का समय केवल 3 दिन का ही रखती है तो वहीं कुछ कंपनियाँ 3 से ज्यादा दिन का समय भी देती है ।

इन दिनों के भीतर आप किसी Company के IPO के लिए Apply कर सकते हैं । IPO खरीदने के लिए आप Company की Official Website पर जा सकते हैं या फिर किसी अन्य Broker का इस्तेमाल कर सकते हैं जैसे Upstox, Grow, Angel One, Zerodha etc.

यदि Company Fix Price IPO Issue के तहत IPO जारी करती है तो आपको Company द्वारा Fix की गई Share की Price पर ही IPO खरीदने के लिए Apply करना होगा ।

और यदि Company ने Book Building Issue के तहत IPO जारी किया है तो फिर आपको Apply करते समय IPO की बोली लगानी होगी मतलब आपको बताना होगा कि आप कितने IPO कितनी Price पर खरीद सकते हैं । अगर आप IPO Me Invest करते हैं तो IPO बंद हो जाने के बाद Share Allotment किया जाता है जिसके बाद आपको Share मिलते हैं ।

IPO में Invest करने के लिए Best Broker को ही चुनें और शुरुआत में किसी Broker के माध्यम से ही IPO में Invest करें । यदि आप IPO में Invest करने जा रहे हैं तो पहले 2, 3 कंपनियों को Compare करें और कुछ दिन रुककर कंपनी की Growth देखकर ही IPO Me Invest करें ।

IPO Me Invest करने के लिए आपको Upstox या Groww Broker Apps का इस्तेमाल करना चाहिए । ये दोनों Broker IPO में Invest करने के लिए Best Broker है ।

आईपीओ कैसे खरीदें - IPO Kaise Kharide [आईपीओ कैसे खरीदा जाता है?]

अगर आप IPO Me Invest करना चाह रहे हैं तो नीचे दिए Points को पूरा जरूर पढ़ें 

  • सबसे पहले किसी Broker Company [Upstox, Groww, ICICI Direct] में अपना Demate Account खोलें
  • इसके बाद Broker App के IPO वाले Section में जाएं यहाँ आपको IPO List दिख जाएगी ।
  • आप जिस Company का IPO खरीदना चाहते हैं उसे Select करें और Payment करें
  • इसके बाद Company आपको IPO Allot करती है । आपने जितने % IPO खरीदे होंगे Company में आपको उतने प्रतिशत के मालिक बन जाते हैं ।
  • अगर किसी कारण से आपको IPO Allot नहीं हो पाते हैं तो आपके पैसे वापस बैंक में भेज दिए जाते हैं ।

IPO Allotment Process

प्रत्येक कम्पनी IPO Opening करने के बाद IPO खरीदने के लिए कुछ दिन का समय देती है । जब IPO Opening Close हो जाती है तब कंपनियाँ सभी निवेशकों को IPO Allotment करना शुरू करती है । जैसे ही IPO Allotment पूरा हो जाता है तो Company के Share Market में List हो जाते हैं ।

जब तक Share, Stock Market में List नहीं होते उन्हें बेचा नहीं जा सकता लेकिन एक बार कंपनी के Share, Stock Market में List हो जाते हैं तो Secondary Market में उन्हें खरीदा और बेचा जा सकता है । मतलब फिर निवेशक Shares को आसानी से Stock Market Timing के अनुसार Buy and Sell कर सकते हैं ।

यदि आपको Secondary Market क्या है? समझ नहीं आया तो बता दें कि Share Market में दो प्रकार से Invest किया जाता हैं - Primary Market और Secondary Market.

Primary Market में IPO के माध्यम से निवेश कर सकते हैं और Secondary Market में Stock Market में List किये गए Shares में निवेश कर सकते हैं ।

IPO Me Invest करने से पहले इन बातों का ध्यान रखें

अगर आप IPO Me Invest करने जा रहे हैं तो कुछ बातों का ध्यान रखना आवश्यक है । चलिये जानते हैं IPO में Invest कर रहे हैं तो किन बातों का ध्यान रखें

  • IPO में Invest करने से पहले आपको इसकी पूरी जानकारी होना आवश्यक है । इसके लिए आप अपने Broker से भी जानकारी ले सकते हैं । 
  • IPO में निवेश करने के लिए आपके पास किसी Best Broker में Demat Account व Pan Card होना चाहिए ।
  • अपने सारे पैसे IPO में Invest नहीं करें ।
  • IPO Me Invest करना जोखिम भरा काम है क्योंकि इसमें आपके लगाए पैसे डूब भी सकते हैं तो वहीं रातों-रात आप करोड़पति भी बन सकते हैं ।

अब तक हमने जाना कि IPO क्या है? IPO कैसे खरीदें? अब हम जानेंगे कि IPO के फायदे और नुकसान क्या है?

SEBI के Under होता है Process

IPO क्या है? IPO कैसे खरीदें? IPO Full Form in Hindi

जब भी कोई कंपनी IPO लाती है तो उस पर SEBI की नजर होती है । SEBI (Securities and Exchange Board of India) के Govt Regulatory होती है जो IPO लाने वाली Companies से सारी Information Check करता है ।

सभी कंपनियों को SEBI के Rules मानने पड़ते हैं उन्हें छोटी से लेकर बड़ी हर बात SEBI को बतानी होती है तब ही कोई कंपनी IPO जारी कर सकती है ।

प्रत्येक कंपनी को एक रेड हैरिंग प्रोस्पेक्टेस (RED HERRING PROSPECTUS) सेबी को देना होता है.

इस रेड हैरिंग प्रोस्पेक्सटस में कंपनी की कुछ Details होती है जैसे कि –

  • बिज़नेस डिटेल्स (BUSINESS DETAILS)
  • कैपिटल स्ट्रक्चर (CAPITAL STRUCTURE)
  • रिस्क फैक्टर (RISK FACTOR)
  • रिस्क स्ट्रैटजी (RISK STRATEGY)
  • प्रोमोटर्स एंड मैनेजमेंट (PROMOTORS AND MANAGEMENT)
  • पास्ट फाईनैंशियल डेटा (PAST FINANCIAL DATA)

आप रैड हैरिंग प्रोस्पेक्टस को सेबी (SEBI- SECURITIES AND EXCHANGE BOARD OF INDIA) की वेबसाइट पर देख सकते हैं । सभी कंपनीयों का SEBI के सभी Rules और शर्तों को मानना जरूरी है ।

IPO के फायदे (Benefits of IPO in Hindi)

IPO के फायदे कंपनी को तो होते ही हैं वहीं दूसरी ओर आम जनता को भी IPO में निवेश के फायदे होते हैं । मतलब IPO में दोनों को फायदे होते हैं -

  • Company अपनी Growth के लिए Fund जुटा लेती है ।
  • Company को कर्ज लेने की आवश्यकता नहीं पड़ती ।
  • IPO पर SEBI नजर रखता है इसलिए निवेशकों के साथ धोखाधड़ी नहीं होती ।
  • निवेशक कम Investment से ज्यादा पैसे कमा सकते हैं ।

IPO के नुकसान (Disadvantage of IPO)

IPO के फायदे होने के साथ ही IPO के कुछ नुकसान भी हैं -
  • IPO में Invest करना जोखिम भरा होता है ।
  • IPO प्रक्रिया महंगी होती ही
  • IPO की प्रक्रिया में बहुत समय लगता है ।
  • Sebi के Rules को मानना पड़ता है ।

क्या IPO में Invest करना सही विकल्प है या नहीं

IPO में Invest करना सही विकल्प है लेकिन यह थोड़ा Risky भी है । अगर आप पहली बार शेयर मार्केट में Investment करना चाहते हैं तो IPO में Invest करना बेहतर विकल्प है ।

FAQ's Related IPO क्या है

IPO क्या है?

जब किसी कंपनी के द्वारा पहली बार Shares को आम आदमी के लिए Offer किया जाता है तो उसे IPO कहते हैं ।

IPO का Full Form क्या है?

IPO का Full Form "Initial Public Offering (इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग)" होता है जिसे हिंदी में प्रथम जन प्रस्ताव कहते हैं ।

क्या IPO में Invest करना चाहिए?

IPO में Invest करना अच्छा विचार है लेकिन इसमें जोखिम भी बहुत होता है । जो Share Market में पहली बार Invest कर रहे हैं उनके लिए IPO बेहतर विकल्प है । IPO में Invest करने से पहले जानकारी लें और Share Market व कंपनियों पर नजर रखें । पूरा पैसा IPO में ही नहीं लगाएं ।

IPO में Invest करने के लिए क्या जरूरी है?

IPO में Investment के लिए आपके पास PAN Card व Demat Account होना आवश्यक है । इसके लिए आप Upstox, Angel One या Grow जैसे Broker Apps में Demat Account खोल सकते हैं ।

IPO से क्या फायदा है?

IPO से कंपनी व Investor दोनों का फायदा होता है । IPO से कंपनी को Fund मिल जाता है व Investor Company के Share खरीदकर उसमें कुछ % हिस्से का मालिक बन जाता है ।

IPO कब बेच सकते हैं?

जब कंपनी द्वारा IPO Allot कर दिए जाते हैं तब IPO को Secondary Market में बेच सकते हैं ।

IPO कैसे खरीदें?

आप किसी Broker कंपनी में Demate Account बनाकर IPO खरीद सकते हैं । Upstox, Angel One, Groww, ICICI Direct जैसे पॉपुलर Broker में Demat Account बना सकते हैं ।

Conclusion: IPO क्या है?

इस Post में हमने IPO Kya Hai in Hindi के बारे में जानकारी दी है । अगर आप Share Market में Invest करना चाहते हैं तो आपको IPO क्या होता है, IPO कैसे खरीदें, IPO में Invest कैसे करें? की जानकारी होना आवश्यक है ।

हम उम्मीद करते हैं आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसन्द आई होगी । अगर आपको ये Article अच्छा लगा हो या IPO से संबंधित किसी प्रकार की समस्या हो तो Comment करके जरूर बताएं और इस Article को अपने दोस्तों के साथ Share जरूर करें ।
Ashish Kumar

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम Ashish Kumar है और मैं एक Professional Digital Marketer हूँ व HindiCraze का Founder हूँ । मैं Graduate हूँ । फिलहाल मैं Study के साथ Blogging करता हूँ और लोगों को Digital Marketing, Blogging, Affiliate Marketing, Internet, Online Paise Kaise Kamaye से संबंधित जानकारियां इस Blog पर देने की कोशिश कर रहा हूँ ।

एक टिप्पणी भेजें

If you have any doubt let me know. Please do not spam...

और नया पुराने